छठ की यादें — Steps towards reality…

बहुत दिनों से मैं हिंदी में लिखने को सोच रहा था | मगर ऐसा करने में मैं हमेशा अपने आप को असहाय सा महसूस कर रहा था | क्या हो गया है आज के दिन में, जब हम अपने मातृभाषा के पकड़ को धीरे धीरे खो रहे हैं | मैंने अंग्रेजी में टाइप करना तो […] … More छठ की यादें — Steps towards reality…

छठ की यादें

बहुत दिनों से मैं हिंदी में लिखने को सोच रहा था | मगर ऐसा करने में मैं हमेशा अपने आप को असहाय सा महसूस कर रहा था | क्या हो गया है आज के दिन में, जब हम अपने मातृभाषा के पकड़ को धीरे धीरे खो रहे हैं | मैंने अंग्रेजी में टाइप करना तो … More छठ की यादें